आइना

short poems

आइना शक्लें  जुदा कर  गया

मेरी नस्लें  पता कर गया

निगाहें  ढूढती  रहीं  सरहदों  के निशाँ

बस यहीं  वो दगा कर गया  ।