तर्क

Long poems

pexels-photo-260024.jpeg

ये गलत है

गलत तो वो भी था

मेरा एक सवाल है

आज ही क्यूँ

इस मुद्दे  पर बात करते  हैं

पहले  पिछला हिसाब करते हैं

आज जो हुआ गलत हुआ, ये तो तुम भी मानते हो

दस साल पहले, यही वहाँ भी हुआ था क्या तुम जानते हो

समस्या का कोई तो हल होगा

तुम्हारे कामों  का ऐसा ही फल होगा

हमें मिलकर सोचना होगा

समय आ गया है,सबको अपना हिस्सा नोचना होगा |

Advertisements