बाजार

short poems

बाजार में खड़ा हूँ

दामन बिछाये  अपना,

बोली लगाइये साहिबान

बहुत जरूरी है मेरा बिकना

Advertisements