दुनिया

short poems

सब कुछ बिल्कुल बना मिले,
ये दुनिया ऐसी कहाँ मिले |

जो तू माँगे तो खाक मिले,
जो ना माँगे तो जहाँ मिले |

Advertisements