रहगुजर

short poems

ये रास्ता कहीं तक तो जाता है,

वैसे मुझे फ़िक्र नही कि कहाँ जाता है,

बस चलने का शौक है, कफिलों की तलब है

Advertisements